FDI ka khel dekha

Sansad mein relampel dekha

FDI ka khel dekha

tark vitark ki baarish mein

hamne kaisa mail dekha //mail= dirt

FDI ka khel dekha

hua bhrasht hai tantra dekha

2G, Koyla ka jokha lekha

bhool gayi sab yeh jab

FDI ka khel dekha…

 

 

 

An excerpt from my upcoming poem in hindi

उनसे क्या फरियाद करें
जो पेट अपना भरने को
गरीबों का पेट काटते हैं
लूट कर भोली जनता को
यह भ्रष्ट अंधे अपनों में
ही रेवड़ियाँ बांटते हैं