tera ehsaas

rjkmed

.. पिछले भाग से जारी
तेरा एहसास ही है जो अब रहता है हर पल
तेरे हुस्न-ओ-नूर की इबादत है मेरी शगल
इन रानाइयों की शुआओं में खो गया हूँ मैं कि
यह चेहरा ये जुल्फें अब हर जगह करते हैं दखल
… आगे भी जारी है (to be continued)

 

tera ehsaas

meri nazmo mein nazar aati na ho taqleef beshaq

lekin ye talkhiyan dil ki, aankhon se bayan hoti hai

mere baagon mein phool nahi khilte ab beshaq

tera ehsaas hai jo ye banzar zameen jawan hoti hai